Author Archives: rail

Page 59 of 189« First...102030...5758596061...708090...Last »

IL&FS Engg & Construction Co receives LoA from DFCCIL for construction of Ganjkhwaja Flyover

Ganj Khawaja (GAQ), Mughalsarai Division, ECR: IL&FS Engineering and Construction Co Ltd:Says in joint venture with GPT Infraprojects Limited has received a Letter of Award (LoA) from Dedicated Freight Corridor Corporation of India Limited (DFCCIL). Says letter of award is for the work of design and construction of rail flyover near Ganjkhwaja in Uttar Pradesh and formation in embankments/cuttings including blanketing, bridges (major, minor & RUBs), supply and spreading of ballast.Says also for other related infrastructural works for double track electrified railway line in different stretches between Dehri-on-Sone & Mughalsarai section of Eastern Dedicated Freight Corridor in the states of Bihar and Uttar Pradesh on design build lump sum basis.Says the total value of this project is 1.4465 bln indian rupees, which is to be completed in 30 months.

Elephant rammed by train in Deepor Beel between Kamakhya-Azara stations

Kamakhya Jn (KYQ), Rangiya Division, NFR:  In yet another case of elephant fatality on killer railway tracks of the State, a sub-adult elephant was killed when it was hit by a speeding train near Deepor Beel – a Ramsar site wetland and a bird sanctuary – last night.

The accident comes within less than a week of a Supreme Court order asking the Union Railway Ministry to slow down all trains when they travel on tracks that pass through reserve forests. The bench also made it clear that the reduced speed limit had to be observed scrupulously, failing which erring drivers and officials would face appropriate action.

Forest sources said that the elephant was about two-three- years old and was part of a herd crossing the railway track. An NF Railway spokesperson said that the accident took place around 10-30 pm between Azara and Kamakhya stations.

“The herd could cross over the track onto Deepor Beel but it seems that the calf got confused and stayed on the tracks. It’s really unfortunate, as following our joint patrolling with Wildlife Trust of India, Railway and local volunteers, a number of train-elephant collisions have been averted in the past three years,” Dibyadhar Gogoi, DFO, Guwahati Wildlife Division, said.

Gogoi added that there were five elephant corridors in the area within a stretch of 9-10 km and that those were being properly monitored for elephant movement during night hours. Conservationist Moloy Baruah of Early Birds said that unless the guidelines concerning speed limits of trains inside forests were strictly enforced, elephant casualties would keep recurring.

“With the recent Supreme Court’s ruling, the need is to ensure that trains maintain a very low speed along forested stretches – something that calls for a coordinated effort by the Forest and Railway authorities. But we still have not put in place a mechanism for checking train speed in forests. Are we in a position to determine the speed of the train which killed the elephant last night?,” he said, referring to the apex court’s order which mandated punishment for erring drivers and officials.

While Assam has a very high elephant mortality caused by trains, the city, too, has witnessed a number of elephant deaths and injuries on railway tracks – most of those taking place near Deepor Beel and Narengi (close to Amchang Wildlife Sanctuary).

Assam accounts for about 37 per cent cases of elephant mortality in India, the highest in the county. The tracks of Kamrup East (Guwahati) Forest Division have been recorded as the deadliest. Construction of the railway line along the northern boundary of Deepor Beel as also growing construction activities in its periphery has severely hindered the traditional elephant corridor widely used by the pachyderms from the nearby Garbhanga and Rani reserve forests.

Golden Rock Workshop on power-saving mode

19dec_tyramns03_TY_1692250ePonmalai Golden Rock (GOC), Tiruchchirapali Division SR:  Golden Rock Railway Workshop has put in place energy conservation measures to reduce power consumption, Chief Workshop Manager Mr.P.Mahesh said on Thursday.

Mr. Mahesh said energy-saving devices had been procured for welding plants and lightings besides replacing IC lamps with compact fluorescent light bulbs. He was speaking at the valediction of the energy conservation week observed at the workshop. Mr. Mahesh said production had gone up resulting in more power consumption, adding that the consumption had gone up by four lakh units during 2012-13 compared to the previous fiscal. The workshop had paid over Rs. 5 crore as energy charges in 2012-13 fiscal. I. Kamalakannan, additional general manager (maintenance and services), BHEL, Tiruchi, released pamphlets containing energy conservation tips.

ECoR hands out a ‘raw deal’ to Vizag Division in Electrification works too

Visakhapatnam (VSKP): The highest revenue earning Division of East Coast Railway (ECoR) has been allocated the lowest funds for taking up electrification works during the last 10 years under the ECoR dispensation.

A total of 1,178.52 TKM (Total Kilometres) was taken up for electrification in Khurda Division from the financial year 2004-05 till date.

The share of Sambalpur Division was 363 TKM. Waltair Division has a dismal share of 127.52 KM from 2004 to 2012.

“Interestingly, the funds allocated to Waltair Division are for areas that are to a greater extent in Odisha,” says Duvvada Railway Station User’s Association secretary K. Eswar, who has obtained the information from the ECoR authorities under the Right To Information (RTI) Act.

The break-up given for Khurda Division (in TKM) is: 2004-05 –— 175.66; 2005-06 –— 253.62, 2006-07 –— nil; 2007-08 –— 268.68, 2008-09 –— 111.7, 2009-10 –— 37.75, 2010-11 –— 189, 2011-12 –— 97.65, 2012-13 –— 27.72, and 2013-14 –— 16.74.

The break up for Waltair Division (in KM as per O/o Sr. Div. EE, Waltair) is: 2004-05 –— 41.78 (provided), 2005-06 –— 0.715 (in progress), 2006-07 –— 1.51, 2007-08 –— 11.98, 2008-09 –— 7.5, 2009-10 –— 16.49, 2010-11 –— 8 (the work for the above five years was sanctioned), and 2011-12 –— 7.65 (sanctioned) and 21.9 (in progress), taking the total to a mere 127.52 KM.

The electrification works for 2012-13 and 2013-14 were left blank for Waltair Division.

Under a separate head under Waltair Division, the electrification work for Vizianagaram to Singapur Road was mentioned as 139 RKM (Route Kilometre –— Rs.88.52 crore approximately) and Singapur Road to Damanjodi 152 RKM, without any mention of the financial years during which the works were sanctioned. The grand total under these two heads was given as 291 RKM (549 KM).

MLA’s letter

Gajuwaka MLA Chintalapudi Venkatramaiah has already written to the Railway Minister regarding the injustice being done to the Waltair Division by the ECoR administration with a “regional feeling” towards Odisha, be it in the laying of new lines, taking up surveys for construction of new stations, and other development works.

The authorities are giving more stoppages to trains in Khurda and Sambalpur divisions while ignoring genuine demands for halts in the Waltair Division.

Mr. Venkataramaiah has also expressed the view that a separate railway zone with headquarters in Visakhapatnam is the only solution to end the “injustice” being done to the Waltair Division.

‘The highest revenue earning Waltair Division has been allocated lowest funds, that too for areas that are to a great extent in Odisha’

New Railway Station to come up at Elavally on Punkunnam-Guruvayur section

Elavally (ELV), Thiruvananthapuram Division, SR:  Divisional Railway Manager Rajesh Agrawal has said the proposal for a new railway station at Elavally in Punkunnam-Guruvayur section is being prepared by the Railways and is under finalisation.

Addressing the Divisional Railway User’s Consultative Committee (DRUCC) meeting at the divisional office here on Thursday,

Mr. Agrawal said work for the two lifts in Thiruvananthapuram central had been awarded and engineering work had already commenced.

Suburban trains

On the suburban train services, the DRM said the Mumbai Rail Vikas Corporation was conducting the study and the feasibility report was yet to be submitted.

To redress the parking problem at Kollam railway station, he said the feasibility of setting up a multi-level parking area would be examined.

Kerala CM to review Goods Station revival at Ernakulam on 27th Dec

There is a plan to transform Ernakulam Railway Goods station into a hub of suburban and MEMU trains.  Crucial meeting with people’s representatives on December 27

15kijlp03_railw_GO_1686884fErnakulam Town (ERN), The proposal to revive Ernakulam Railway Goods (ERG) station and turn it into a passenger terminus will be one of the key issues that will be discussed at a meeting on December 27, Chief Minister Oommen Chandy has said at Aluva on Thursday.

The meeting is being held to ensure the speedy construction of an overbridge proposed at Pachalam level crossing. People’s representatives from the Kochi Corporation and Railway are expected to attend.

Union Minister of State K.V.Thomas said in a memorandum submitted to Union Railway Minister Mallikarjun Kharge that Southern Railway must revive the ERG station so that it can become a hub of suburban and MEMU trains. In a press release, he said Ernakulam Junction and Town railway stations could not handle more trains because of paucity of space. “This shows the need for a third station in the city.”

The Minister’s statement comes in the backdrop of Southern Railway General Manager Rakesh Misra’s comment that reviving the station was impossible because of technical issues. This had invited criticism from various quarters. Allegation was rife that moves were afoot to rope in private players who would end up siphoning 39 acres of prime government land.

A host of people’s representatives and NGOs had demanded that Mr. Thomas, who represents Ernakulam in the Parliament, and Hibi Eden, Ernakulam MLA, intervene in the matter so that the Railway sheds its ‘negative’ attitude. He demanded that Ernakulam Junction station be developed into a world-class station as promised in many Railway budgets. “The Railway must also begin a daily Duronto Express from the city to Bangalore, a daily Rajdhani service and daily train to Guwahati. More trains to Thiruvananthapuram from Ernakulam too are needed.”

Ipswich to screen “The Railway Man” before release

9-2151727-ips161213film16a_t460Queensland:  IPSWICH’S newest cinema is to stage an advance charity screening of the anticipated film “The Railway Man” starring Nicole Kidman and Colin Firth.

The wartime drama has a special link to Ipswich, with some scenes from the movie filmed at the Ipswich Railway Workshops.

Based on a remarkable autobiography, the film tells the true story of Eric Lomax, a British Army officer who was tormented as a prisoner of war at a Japanese labour camp during World War 2.

The film’s producer Chris Brown, who is based in Queensland, said it was always important for him to try and bring film productions to his home state.

He said the Ipswich Rail Workshops had been the perfect space to film The Railway Man’s climactic scenes.

Mr Brown said filming at the location could not have worked without the support of Ipswich City Council, property owner Bob Ell and the community.

In light of its local connection, Limelight Cinemas CEO Ross Entwistle said he had arranged an advanced screening of the film at his newly opened movie theatre at Riverlink.

The screening will raise money for the Ipswich Mayor’s Community Fund and take place four days before The Railway Man’s national release.

The event will take place this Sunday at 4pm. Tickets cost $10.

Railways yet to come up with technology to beat fog

Fog safety devices installed on trains on trial basis

New Delhi:  Even as rail traffic continues to be thrown out of gear due to fog every year, the Indian Railways have failed to come up with a fool-proof technology to mitigate the problem. While the Railways have introduced technological innovation by installing fog safety devices on locomotives on a trial basis, the device has a limited purpose – to ensure that the locomotive pilots are reminded well within time about the next approaching signal and station.

Northern Railway introduced the device on a trial basis in the winter of 2011 and currently a total of 1,018 fog safety devices designed by the Research Design and Standards Organisation are installed on different express and mail trains across the zone.

“The device is on a trial run. It is installed in the locomotive. It contains data of all the stations and the rail traffic signals on a particular route. It gives a buzz whenever a train is approaching a signal. It mainly alerts the loco pilot that the train is approaching a signal, which otherwise remains invisible with naked eye in foggy condition. It is to ensure that the safety of passengers, which is paramount, is not compromised,” said Northern Railway spokesperson Neeraj Sharma.

The device supplements the traditional way of informing the loco pilot about an approaching signal by bursting crackers on the railway tracks, Mr. Sharma added.

The device has also been introduced by other fog-prone railway zones like North Western and East Central Railway. Officials said outcome of the device, which at best can replace the traditional system of bursting crackers, is being followed at the level of Railway Board and the RDSO.

Railway officials speaking privately, however, said that technological intervention to cut through fog and ensure normal operation of trains in foggy weather over a railway network spread across thousands of kilometres is a difficult task.

“To expect such a situation is like putting the entire network on an automated mode. For that, track circuiting would have to be done on the entire network. Even technological intervention has a limit. Despite spending crores in installing CAT III technology at the airports, operation comes to standstill if the visibility level recedes beyond the prescribed limits. Moreover, the Railways is an open network where the right of way of the train is violated at will,” said a senior Northern Railway official.

UNESCO pulls up Darjeeling Himalayan Railway over encroachments

Darjeeling (DJ), Katihar Division, NFR:  The Darjeeling Himalayan Railway is in trouble with UNESCO. A UNESCO team Thursday expressed concern over encroachments on the world heritage site and pulled up railway officials over slow restoration of tracks hit by landslides.

A three-member UNESCO delegation led by Heritage Committee Chief Mr.Haribansh Kirat inspected the narrow gauge railway that runs between New Jalpaiguri and Darjeeling in West Bengal.

The team expressed displeasure over the slow progress of restoration work of tracks badly affected by landslides in 2010 that disrupted train services.

The team inspected tracks in Kurseong, Ghum and Darjeeling.

It said illegal shops and houses have been constructed near the tracks at many places which have considerably slowed down the speed of the trains.

“There are so many encroachments. A world heritage site should be free from this,” said Kirat.

He said he will send a detailed report regarding the encroachments to the chief of the UNESCO heritage committee.

Built between 1879 and 1881, the 78-km-long Darjeeling Himalayan Railway is only the second railway to have the honour of world heritage site bestowed upon it, the first being Semmering Railway of Austria.

The UNESCO team also said the Darjeeling Himalayan Railway was yet to submit a proposal on how it proposed to spend the $6 million sanctioned to it by UNESCO.

Railway officials assured the team they were committed to make efforts to attract tourists from across the globe.

The Darjeeling Himalayan Railway is also planning to run a Red Panda special train from Darjeeling to Kurseong giving passengers a glimpse of the endangered species.

“We are planning to soon start the Red Panda special train,” said Darjeeling station master Suman Pradhan.

Meanwhile, South Eastern Railway’s Area Manager (Siliguri) Partha Sarathi Seal said train services between the landslide-affected Siliguri and Gayabari was likely to resume by Dec 25.

“Restoration work between Gayabari and Kurseong is in full swing and only 30 percent of work is left,” said Seal.

UNESCO had earlier issued a warning to the Darjeeling Himalayan Railway threatening to withdraw the world heritage site tag following disruption of train services between Darjeeling and Siliguri due to the 2010 landslides. Subsequently, the Darjeeling Himalayan Railway allocated Rs.85 crore for restoration work.

Another UNESCO delegation is slated to make a re-inspection in January.

Bhopal Double-decker to lower fare, likely to change timetable

Bhopal Jn (BPL): The divisional railway users’ consultative committee (DRUCC) has recommended reduction in fare and change in timings of the Indore-Bhopal AC double decker train. The committee that met here on Wednesday also recommended for introducing pantry car in the double decker and Shaan-e-Bhopal trains.

The Bhopal railway division would forward these recommendations to the Railway Board for approval.

At the meeting, DRM Rajiv Chaudhary informed that platform height of 10 stations was being raised while length of platform in 19 stations under the division were being increased.

The members were informed that under rail budget 2013-14, 15 new trains had been introduced which would pass through the division. Frequency of four trains have been increased. Of the 15, five have started operations while the rest will commence in 2014.

The meeting was attended by senior DCM Brijendra Kumar who informed about passenger amenities in the division. As per information, the division has earned Rs 294.47 crore in the current financial year from passenger fares and Rs 478.63 crore from freight. Similarly, 1,77,812 cases of ticketless travel was reported during the checking drive and the division earned Rs 7.23 crore as fine. The total earning of the division till November is Rs 814.82 crore, up by 3.12% since last financial year.  In the beginning of the programme, scouts and guides felicitated the members of the DRUCC. Following are few of the demands:

  • Vindhyachal Express should run from Bhopal at 7 pm
  • Extend Bhopal-Bilaspur passenger train to Habibganj
  • Add coaches in case of high waiting lists of passengers
  • Decrease the stoppage and fares of Double Decker
  • Build toilets in Bhopal-Bina MEMU Train
  • Extend Habibganj-Jabalpur Intercity to Bhopal
  • Make Jhansi-Bandra Express a daily train
  • Introduce pantry car in Patalkot Express
  • Finish Karond under bridge work soon
  • Extend Bhopal-Indore passenger to Habibganj
  • Make changes in the coaches of Bhopal Express
  • Extend Bhopal-Lucknow Garib Rath Express to Habibganj
  • Halt at Habibganj station for Kerala Express
  • Make Gwalior-Bhopal Intercity Express a daily train

Centre ignoring demands of Railway staff

Chennai (MAS): The Centre has been ignoring the genuine demands of the railway employees, and hence the members of the All India Railwaymen Federation has decided to go on an indefinite strike, and they will make a decision in this regard based on a secret ballot on December 20 and 21, according to Southern Railway Mazdoor Union zonal president C.A. Raja Sridhar.

The railway employees’ demands included merger of entire dearness allowance with basic pay and 20 per cent reservation for wards of railway employees in jobs for which recruitment was done by the Railway Recruitment Board, he told reporters here on Tuesday. Madurai division secretary of the union J.M. Rafi was present.

Russia to on-board rail-mounted Intercontinental Ballistic Missiles to counter-balance US

Moscow:  Russia is developing a new intercontinental ballistic missile mounted on a railway car in a bid to counterbalance prospective U.S. weapons, a senior military officer said Wednesday.

Col.Gen.Sergei Karakayev, the Chief of the Military’s Strategic Missile Forces, said in remarks carried by Russian news agencies that the new weapon will be much easier to camouflage than its predecessor. The Soviet-designed railway missiles were scrapped in 2005.

Karakayev said the Yars missile intended for the project is much lighter than the Soviet-built system and could be put inside a regular refrigerator car unlike its predecessor, which required a heavier and bigger car that could be detected by enemy intelligence.

“No matter how they tried to hide it, any expert would figure out that it wasn’t a regular train,” Karakayev said.

Missiles hidden inside railway cars are far more difficult to spot and destroy compared to other land-based missiles, and thus have a better chance to survive an enemy strike.

“It could easily be put in a conventional refrigerator car … which can travel on any route,” Karakayev said.

The Kremlin has vowed to develop new types of weapons in response to U.S.-led NATO missile defense in Europe.

Earlier this week, Lithuania and Poland expressed concern about signals that Russia has deployed state-of-the-art missiles in its westernmost exclave of Kaliningrad that borders the NATO countries.

President Vladimir Putin and other Russian officials also have voiced concern about the “prompt global strike” weapons under development in the U.S., which would be capable of striking targets anywhere in the world in as little as an hour with deadly precision.

The U.S. plans included modifying some of the existing nuclear-armed missiles to carry conventional warheads as well as designing new vehicles capable of traveling at hypersonic speeds.

In his state-of-the nation address last week, Putin refrained from naming the U.S., but described the “prompt global strike” program as an attempt to tilt the strategic balance in the United States’ favor and vowed to counter it.

Karakayev said the development of a new railway-based missile was part of a Russian response to “prompt global strike.”

Russia has increasingly relied on nuclear weapons in its military strategy to compensate for a post-Soviet decline in its conventional forces. The nation’s military doctrine says it may use nuclear weapons to counter a nuclear attack on Russia or an ally, or a large-scale conventional attack that threatens Russia’s existence.

Russia-West ties have become increasingly strained over the U.S. missile shield, Western criticism of Russia’s human rights record and, most recently, Ukraine.

53 trains cancelled, 37 running late due to thick fog

New Delhi (NDLS)/NR: With foggy conditions persisting in parts of north India, Northern Railway today cancelled services of 53 trains for 10 days from December 21.

Services of 53 trains including Delhi-Shamli, Jind-Ferozpur, Moradabad-Barelli, Kanpur-Prayagraj, Haridwar-Rishikesh have been cancelled for 10 days and six trains such as Amritsar-Hoshiarpur, Delhi-Sitapur are partially cancelled, said a Northern railway official.

The dense fog continued to affect the time schedule of 37 trains with many running late by more than 10 hours.

While Mahabodhi is running 22 hours late, Purvottar Sampark Kranti and Mahananda are running nine and 10 hours behind the schedule.

Railways have made arrangements to help stranded passengers at stations. More inquiry counters and additional helpline are being made operational to update commuters about train timings affected due to fog.

“An SMS service has also been started. The customers can get arrival and departure time of the train on SMS by SMSing the train number to 9717631813,” said the Northern Railway official.

CCTV camera at Kishanganj Railway Station by Jan-end

Kishanganj (KNE), Katihar Division, NFR: The North-East Frontier Railways (N.F.Rlys) are making two new year bonanzas to the railway station at Kishanganj under Katihar Division, besides improvising its services on the platforms here. The station will also be equipped with CCTV camera, in all probability, by January-end as work on it is already in progress.

This information was given by Katihar Divisional Commercial Manager R.K.Jha at the Railway Consultative Committee (RCC) meeting at Kishanganj on Tuesday. Addressing the concerns of the commuters and rail users, the railways have decided to introduce token system for the purpose of reservation in all trains passing through Kishanganj and also in tatkal booking system. This will not only facilitate the commuters and rail users but will also deter the touts and agents,” the DCM told the RCC members.

DCM Jha while responding to the complaints of members like Dr Ichchit Bharat and Chhagan Lal Jalan and others, said the railway inquiry and coach indication display systems, which were more or less dysfunctional at present, would be in place henceforth and in this context also pulled up railway officials who are in charge of these two key systems. Conceding the demand for more booking counters at the station in view of ever increasing rush of commuters, the DCM said, “Once the new building, work on which was in progress, is completed, more booking counters will be provided at Kishanganj.”

RCC member Deven Yadav drew the attention of the authorities towards the criminals who drug the bonafide passengers and loot them as well as of the touts and unauthorized travel agents. He also called for stringent measures against fake tickets.

Focusing on more hygienic and delicious food, DCM Jha informed that a Food Plaza would soon be opened at the platforms which would greatly facilitate the passengers. The washing PIT line will become functional before March end helping the railways in introducing some more trains from Kishanganj in future. Sheds on the platforms will also be extended in view of more bogies being attached to trains, he said.

SCRES urge Railways to drop proposal of shifting goods crew to Nallapadu

Nallapadu (NLPD), Guntur Division, SCR:  South Central Railway Employee Sangh divisional secretary B.K Visweswara Rao on Thursday appealed to Divisional Railway Manager, Guntur, N.K. Prasad to drop the proposal to shift the goods crew to Nallapadu since the isolated stretch between Guntur and Nallapadu would pose problems for loco personnel.

In a memorandum, Mr. Rao said that Nallapadu station was located at an isolated place and there were no basic facilities to stay.

The staff would find to difficult to reside in the area since it is located far away from the town.

New crew lobby

The railways has proposed to develop a new crew lobby to be developed at Nallapadu station to avoid pre-departure detention of goods trains starting from Nallapadu.

It takes about 50 minutes for fuelling of locos, attaching and formation release, and air pressure charging.

Parallel path

Mr. Rao proposed that a parallel path to the track could be laid along with Nallapadu level crossing to avoid the gate and reduce the delay.

टिकट चेकिंग से मचा रहा हड़कंप

Jhansi Jn (JHS), NCR | झांसी। रेलवे स्टेशन पर मंगलवार को उत्तर मध्य रेलवे के मुख्य वाणिज्य प्रबंधक डॉ. डी के त्रिपाठी के नेतृत्व में टिकट चेकिंग अभियान चलाया गया। सोलह घंटे तक चले इस अभियान में बारह सौ बिना टिकट यात्री पकड़े गए। इस अभियान को लेकर बेटिकट यात्रियों में हड़कंप मचा रहा।

रेलवे स्टेशन पर मंगलवार को सुबह छह बजे से टिकट किलेबंदी चेकिंग अभियान चलाया गया। स्टेशन के प्रत्येक प्लेटफार्म व द्वार पर चेकिंग कर्मी लगाए गए थे। चेकिंग के लिए झांसी रेल मंडल के अलावा आगरा, कानपुर, इलाहाबाद से भी टिकट चेकिंग कर्मियों को बुलाया गया था। रात दस बजे तक चले अभियान के दौरान मंगला एक्सप्रेस, केरला एक्सप्रेस, बुंदेलखंड एक्सप्रेस, समता एक्सप्रेस, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस, झेलम एक्सप्रेस, ताज एक्सप्रेस, आंध्र प्रदेश संपर्क क्रांति, पठानकोट एक्सप्रेस, साबरमती एक्सप्रेस, कुशीनगर एक्सप्रेस, पंजाब मेल, स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस, चंबल एक्सप्रेस, आगरा- झांसी पैसेंजर, मंगला एक्सप्रेस, अंडमान एक्सप्रेस आदि ट्रेनों के यात्रियों को चेक किया गया। चेकिंग में बारह सौ बिना टिकट यात्री पकड़े गए, जिनसे पांच लाख रुपये शमन शुल्क वसूल किया गया। चेकिंग में सहायक वाणिज्य प्रबंधक रवि प्रकाश, सीटीआई एच एस चौहान, पी के शर्मा, आर के पांडे, नीलम सिंह, अर्जुन सिंह, उमर खान, महेंद्र सेन आदि शामिल थे।

पैसेंजर में पकड़े गए रैली से लौट रहे लोग

झांसी। दिल्ली के जंतर मंतर से आरक्षण रैली में शामिल होकर आगरा- झांसी पैसेंजर से बिना टिकट लौट रहे 70 लोगों को गाड़ी से उतरते ही पकड़ लिया गया। इन सभी को झांसी से ट्रेन बदलकर हरपालपुर जाना था। इस दौरान रैली में शामिल यात्रियों ने विरोध करने की कोशिश की, लेकिन उनकी एक न चल सकी। बाद में उनसे 18 हजार रुपये जुर्माना वसूल किया गया।

लक्ष्मीपुर रेलवे स्टेशन पर खुलेगा आरक्षण केन्द्र

95796660Lakshmipur (LKX), Howrah Division, ER | लक्ष्मीपुर:  लम्बी प्रतिक्षा के बाद लक्ष्मीपुर क्षेत्र के लोगों को रेलवे आरक्षण केन्द्र की का लाभ मिलेगा। बुधवार को आनन्दनगर रेलवे स्टेशन पर आयोजित परामर्शदात्री समिति की बैठक में यह जानकारी क्षेत्रीय रेल प्रबन्धक जेपी सिंह ने सदस्यों को दी।

परामर्शदात्री समिति का बैठक में सदस्य एमपी सहानी ने स्टेशन अधीक्षक कार्यालय के मरम्मत ,ट्रेन संख्या 55141 के समय सारणी की समस्या उठाई । सुधेश मोहन श्रीवास्तव, मो. हई ने रेलवे स्टेशन के पश्चिमी व पूर्वी सड़क के निर्माण पर जोर दिया। समिति के सदस्य रमेशचन्द्र श्रीवास्तव, अनिल सिंह व डा. पंकज चौधरी ने लम्बी दूरी की ट्रेन के साथ साथ प्लेटफार्म पर हैण्डपम्प लगवाने व बंदरों के आतंक से निजात दिलाने की मांग की। जयन्त्री प्रसाद ने लक्ष्मीपुर रेलवे स्टेशन पर रेल आरक्षण केन्द्र की मांग की थी। बैठक की अध्यक्षता कर रहे क्षेत्रीय रेल प्रबन्धक जे पी सिंह ने बताया कि लक्ष्मीपुर रेलवे स्टेशन पर आरक्षण केन्द्र का खोला जाना तय हो चुका है। बाकी समस्याओं के समाधान के लिए भी रेलवे प्रयास करेगा।

बैठक में प्रमुख रूप से एसपी सिंह वाणिज्य अधीक्षक,डीके श्रीवास्तव वाणिज्य निरीक्षक,प्रदीप कुमार दुबे यातायात निरीक्षक, अवधेश श्रीवास्तव स्टेशन अधीक्षक, डीएन उपाध्याय, राधेश्याम सिंह, अशोक कुमार रस्तोगी व हीरालाल सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

चलती ट्रेन में टिकट बुक करा सकेंगे यात्री

Jhansi Jn (JHS) | झांसी। रेलवे जल्द ही ट्रेनों में वाई फाई ब्राडबैंड सेवा शुरू करने जा रहा है। इस सिस्टम में कोचों की खाली सीटों की ऑनलाइन निगरानी होगी। यात्री मोबाइल की मदद से ट्रेन में ही टिकट बुक करा सकेगा। साथ ही टीटीई को भी स्मार्ट फोन उपलब्ध कराया जाएगा। इस व्यवस्था को प्रायोगिक तौर पर कोलकाता में शुरू किया जा चुका है।

रेलवे अभी किसी ट्रेन के प्रारंभिक स्टेशन से चलने अथवा ठहराव वाले स्टेशन पर पहुंचने से चार घंटे पहले उस गाड़ी में आरक्षण देना बंद कर देता है। इसके बाद उस ट्रेन का चार्ट जारी कर दिया जाता है। अगर उस ट्रेन में कोई बर्थ खाली है तो उसकी जानकारी ट्रेन में तैनात टीटीई को ही मिल पाती है। मजबूरन, यात्री को टीटीई के आगे- पीछे दौड़ना पड़ता है। अगर टीटीई ने सीट दे भी दी तो उसके बदले में वह रसीद बनाता है। रसीद में ही सारा विवरण नोट किया जाता है। रेलवे अब अपने सहयोगी रेलटेल निगम लिमिटेड की मदद से वाई फाई ब्राडबैंड सेवा शुरू करने जा रहा है। यह सिस्टम हर समय ट्रेनों में बर्थ पोजीशन की निगरानी करेगा। अगर कोई अंतिम समय में भी ट्रेन पकड़ने स्टेशन पहुंचता है और अगर उसका आरक्षण नहीं है तो वह इस सिस्टम की मदद से संबंधित ट्रेन में खाली बर्थों की पोजीशन पता कर सकता है। अगर बर्थ खाली है तो वह ट्रेन में सवार होने के बाद टीटीई से मिलकर आन लाइन सिस्टम से कंफर्म बर्थ पा सकता है। इसके लिए टीटीई को भी स्मार्ट फोन उपलब्ध कराए जाएंगे। स्मार्ट फोन की मदद से टीटीई को खाली बर्थों की पोजीशन तुरंत देनी होगी। रेलवे का मानना इस सिस्टम के लागू होने पर चलती ट्रेन में सीटों की उपलब्धता में और अधिक पारदर्शिता आएगी।

अंडरग्राउंड पुल का हुआ निर्माण, ठप रहा रेल परिचालन

18_12_2013-18mrz5c-c-2Mirzapur (MZP) Allahabad Division, North Central Railway | मीरजापुर : विंध्याचल-मीरजापुर स्टेशन के बीच दूधनाथ रेलवे क्रासिंग पर अब जनता को जाम का झाम नहीं झेलना पड़ेगा। बुधवार को उत्तर मध्य रेलवे इलाहाबाद के वरिष्ठ रेलवे अधिकारियों की मौजूदगी में लगभग तीन घंटे के अथक प्रयास के बाद ट्रैक को लगभग 15 फीट गहरा खोदकर उसमें ढली हुई पुलिया का निर्माण करवाया गया। इस दौरान बड़ी संख्या में गैंगमैन व मजदूर कार्य में लगे रहे। दोपहर एक बजे से शाम को तीन बजे तक पुलिया का निर्माण कार्य चला। शाम लगभग तीन बजकर दस मिनट पर डाउन लाइन में बीस किलोमीटर के कॉसन पर पहली मालगाड़ी गुजारी गई। ठेकेदार एके पाठक ने बताया कि नई टेक्नालाजी से पुलिया का निर्माण करवाया गया है। उत्तर मध्य रेलवे की यह पहली पुलिया है जहां पर बनी बनाई सीसी को ट्रैक के नीचे सेट किया गया। दोनों तरफ से लगभग एक किलोमीटर दूरी में सड़क को खोदा गया है।

दावा किया जा रहा है कि पुलिया निर्माण के बाद अब सड़क निर्माण करवाया जाएगा। कार्य की मानीटरिंग उत्तर मध्य रेलवे इलाहाबाद के वरिष्ठ परिचालन प्रबंधक विजय कुमार कर रहे थे। इसके अलावा मीरजापुर, चुनार, इलाहाबाद व नैनी सेक्शन से बड़ी संख्या में अभियंता यहां डेरा डाले हुए हैं। उनकी देखरेख में अप व डाउन में दोनों तरफ से ओएचई आफ की गई। ट्रैक पर गिट्टी भरी जा रही थी। अधिकारियों ने कहा कि जनवरी 2014 तक सड़क का निर्माण पूरा हो जाएगा। इसके बाद आवागमन शुरू हो सकेगा।

कौन सी ट्रेनें रहीं रुकी

लालकिला, जनता,महानगरी, स्वर्ण जयंती मुगलसराय पैसेंजर, जोधपुर हावड़ा व आधा दर्जन मालगाड़ियां जगह-जगह स्टेशनों पर रुकी रहीं। यात्री परेशान देखे गए। स्थानीय रेलवे स्टेशन पर यात्रियों ने हंगामा खड़ा कर दिया। आरोप लगाया है कि मनमाने ढंग से ट्रेनों को जहां तहां रोक दिया गया है।

परियोजना की स्थिति पर एक नजर में

अनुमानित लागत-साढ़े तीन करोड़

पुलिया की लंबाई-पांच मीटर

ऊंचाई-तीन मीटर

सड़क की लंबाई-एक किलोमीटर

टूटेंगे रेल फाटक

पुलिया पर आवागमन शुरू होने के बाद दूधनाथ व ओझला रेलवे क्रासिंग को तोड़ दिया गया जाएगा। रेलवे ने यह फैसला यातायात सुविधा को देने के बाद लिया है। रेल फाटक टूट जाने के बाद वहां पर तैनात 16 कर्मचारियों को कहीं और भेजा जाएगा। रेलवे का दावा है कि इससे हर साल पच्चीस से तीस लाख की बचत होगी।

1 जनवरी से बरेली-बदायूं, 15 फरवरी से कासगंज-बदायूं के मध्य बंद होगा रेल संचालन

Kasganj (KSJ) कासगंज: ब्रॉडगेज मार्ग के लिए कासगंज-बरेली के मध्य कछला ब्रिज पर किए जा रहे कार्य के दौरान हुए हादसे की जांच रेल विभाग द्वारा की जा रही हो, लेकिन इस हादसे का प्रभाव आमान परिवर्तन के कार्य पर नहीं पड़ेगा। एक जनवरी से बरेली-बदायूं से तो 15 फरवरी से कासगंज से बदायूं के मध्य रेलगाडि़यों का संचालन बंद हो जाएगा। रेलवे ने पुल-पुलिया बनाने का काम तेज किया है। ब्रॉडगेज बिछाने का कार्य भी चल रहा है।

कासगंज-बरेली ब्रॉडगेज रेल मार्ग के लिए रेल मार्ग जनवरी माह से बंद होगा। वह भी बदायूं एवं बरेली के मध्य प्रथम चरण में कार्य होगा। उसके बाद 15 फरवरी से द्वितीय चरण में कासगंज-बदायूं के बीच कार्य पूरा होगा। संभावना है कि जून माह में कासगंज-बरेली के बीच ब्राडगेज पर ट्रेन दौड़ने लगेगी और उस समय यह सपना साकार हो जाएगा तो दक्षिण तक पहाड़ का सीधा कनेक्शन हो जाएगा। यहां बता दें कि बीते तीन दिन पूर्व कछला रेल पुल पर हुए हादसे में पांच लोगों की जान चली गई थी और दो दर्जन लोग घायल हुए थे। लोग अंदाजा लगा रहे थे कि इस हादसे से आमान परिवर्तन के कार्य पर प्रभाव पड़ेगा। लेकिन ऐसा नहीं होगा। क्योंकि रेलवे बोर्ड 84 किलोमीटर के ब्राडगेज को नवंबर तक जमीन पर उतारने के लिए बजट दे चुका था। लेकिन कछला पुल पर पूर्व में ही एक पिलर गलत बन जाने से और तीन गलत गार्डर बनने से कार्य रूक गया था। कासगंज-बरेली रेल मार्ग को ब्राडगेज करने के 235 करोड़ के प्रोजेक्ट को रेल बजट 2013-14 में इज्जतनगर रेल मंडल के कासगंज-बरेली मीटरगेज से ब्राडगेज में परिवर्तित करने के लिए रेलवे बोर्ड ने इस प्रोजेक्ट को हरी झंडी दी थी। इज्जतनगर मंडल के जन संपर्क अधिकारी राजेंद्र सिंह ने बताया कि कार्य पर हादसे का कोई प्रभाव नहीं होगा। कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है। निर्धारित तिथियों में रेल ट्रैक बंद रहेगा।

इज्जतनगर रेल मंडल की और बढ़ेगी इज्जत

Izzatnagar (IZN) इज्जतनगर:  इज्जतनगर रेल मंडल के नाम एक और नगीना जुड़ने जा रहा है। सीबीगंज की बंद स्लीपर फैक्ट्री की जमीन पर डेमू मेंटीनेंस वर्कशॉप का ख्वाब जल्द हकीकत में बदलेगा। इसके लिए 37.39 करोड़ रुपये के प्रस्ताव को रेलवे बोर्ड ने हरी झंडी दी है, तो वहीं डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) को पांच लाख रुपये मिले हैं। इससे रेल बजट 2014-15 में एलान के साथ ही निर्माण को राशि मिलना तय है।

बरेली जिले के सीबीगंज में रेलवे की 2005 में बंद स्लीपर फैक्ट्री की खाली पड़ी जमीन पर डीजल/इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट (डेमू) मेंटीनेंस वर्कशॉप बनाने का फैसला लिया था। जिसके चलते रेलवे बोर्ड को 37.39 करोड़ रुपये का प्रस्ताव भेजा था। बोर्ड ने पिछले सप्ताह इस प्रस्ताव को हरी झंडी देकर जनवरी तक डीपीआर मांगी है। डीपीआर को पांच लाख रुपये मिलने के बाद डीआरएम चंद्र मोहन जिंदल ने सीनियर कैरिज एंड वैगन, सीनियर डीईएन, एओएम समेत प्रमुख अफसरों को यह जिम्मेदारी सौंपी। इस पर डीपीआर बनाने की कवायद शुरू हो गई है। डीआरएम चंद्र मोहन जिंदल का कहना है कि डेमू मेंटीनेंस वर्कशॉप प्रस्ताव को मंजूरी मिली है। डीपीआर को पांच लाख रुपये मिलने के बाद इसे बनाने का जिम्मा अफसरों सौंपा है। अब रेल बजट में निर्माण को राशि मिलने की उम्मीद है।

डीजल शेड-वर्कशॉप शान

रेल मंडल में डीजल शेड और कैरिज एंड वैगन वर्कशॉप पहले से ही है। डीजल शेड में मीटरगेज के साथ-साथ ब्राडगेज इंजन का भी कार्य शुरू हो गया है, तो वहीं वर्कशॉप के नाम पर भी कई उपलब्धि जुड़ी हैं।

रुहेलखंड में दौड़ेंगी डेमू ट्रेन

मेट्रो की तर्ज पर रुहेलखंड के ट्रैकों पर सात-आठ कोच वाली डेमू ट्रेन जल्द चलेंगी। इसीलिए पूर्वोत्तर रेलवे में पहली डेमू मेंटीनेंस वर्कशॉप का निर्माण सीबीगंज में होगा। वर्तमान में डेमू ट्रेन आगरा-मथुरा, वृंदावन-मथुरा ट्रैक पर चल रही हैं।

ख्वाब अधूरा

कोच कारखाने की लंबे समय तक मांग रही। इसके लिए जमीन फाइनल होने के बाद प्रस्ताव मांगा गया था। मगर अचानक पंजाब के कपूरथला में यह बनाने का फैसला हो गया। इसका मलाल बरेली को आज भी है।

एक पीएनआर पर दो जगह बर्थ

Lucknow New (LJN) लखनऊ: पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन की कार्य प्रणाली भी निराली है। आरक्षित बुकिंग काउंटर के बाहर टिकट दलालों की सेंधमारी है, तो अंदर विभाग के संबंधित लोगों में कोटे के नाम पर लापरवाही। लंबी दूरी की गाड़ियों में एक-एक बर्थ के लिए मारामारी है। पूर्वोत्तर रेलवे में तो एक पीएनआर पर एक ही कोच में दो जगह बर्थ आरक्षित हो जा रहे हैं।

गोरखपुर में 15 दिसंबर को ही हेडक्वार्टर आफिस कोटे से एक सांसद के पीएनआर नंबर पर दो जगह बर्थ आरक्षित हो गई। जानकारी होने पर सांसद भी परेशान हो उठे। मौके से ही उन्होंने संबंधित अधिकारियों को जानकारी दी। इसके बाद हड़कंप मच गया। मामले की छानबीन चल रही है।

बरौनी से नई दिल्ली जाने वाली 12553 वैशाली सुपरफास्ट एक्सप्रेस से आधा दर्जन सांसद 15 दिसंबर को दिल्ली गए। इसमें कमांडो कमल किशोर, जगदंबिका पाल, हर्षवर्धन सिंह आदि मौजूद थे। कमल किशोर ने टिकट आरक्षित कराने को गोरखपुर व बरौनी हेडक्वार्टर कोटे से निवेदन किया था। बरौनी हेडक्वार्टर कोटे से गोरखपुर से नई दिल्ली के लिए पीएनआर नंबर 6621465298 पर कोच ए वन के केबिन में उनका और उनके साथ चलने वाले की बर्थ कंफर्म हो गई, लेकिन, उसी पीएनआर नंबर पर गोरखपुर हेडक्वार्टर कोटे से भी बर्थ आरक्षित हो गई। पर यहां से उनका बर्थ कूपे ई में आरक्षित हुआ।

पढ़ें : साहब ने चखते ही थूक दिया जनता खाना

संबंधित विभाग ने भी यह जानने की कोशिश नहीं की कि जब केबिन में पहले से ही बर्थ आरक्षित है तो कूपे में क्यों आरक्षण उपलब्ध करा रहे हैं। बड़ी बात यह है कि चार्ट निकलते समय भी किसी ने ध्यान नहीं दिया। गाड़ी पर चार्ट भी चिपक गया। रास्ते में मामले का खुलासा हुआ। कहां से गलती हुई है, इसके लिए जिम्मेदार कौन है? की जांच शुरू हो गई है।

सीपीआरओ पूर्वोत्तर रेलवे आलोक कुमार सिंह ने बताया कि अगर ऐसा है तो मामला गंभीर है। तकनीकी खामी के चलते ही इस तरह की चूक हो सकती है। इस प्रकरण को क्रिस के सामने रखा जाएगा।

खेलते हुए ट्रेन में चढे़, बाराबंकी पहुंचे बच्चे

Barabanki Jn (BBK), Lucknow Division, Northern Railway बाराबंकी। आनंद विहार एक्सप्रेस ट्रेन में मंगलवार की शाम तीन बच्चे लावारिस दशा में मिले। स्टेशन पर यात्रियों ने तीनों बच्चों को जीआरपी के सुपुर्द कर दिया है। बच्चे अपना पता दिल्ली का बता रहे हैं। दिल्ली से बिहार जा रही आनंद विहार एक्सप्रेस ट्रेन में मंगलवार की शाम करीब छह बजे बाराबंकी जंक्शन पर तीन बच्चे दिखाई दिए। शक होने पर स्टेशन पर मौजूद यात्री रणधीर सिंह व कामरान ने तीनों बच्चों को जीआरपी के सुपुर्द कर दिया। थानाध्यक्ष गिरिजा शंकर त्रिपाठी ने बताया कि बच्चों ने अपना नाम करन (5) पुत्र संजय, अर्जुन (8) पुत्र राजू सिंह व अंकित (10) पुत्र राम प्रकाश बताया है। तीनों खुद को दिल्ली के तुगलपुरा में अंसल मार्ट के पीछे एक बस्ती का निवासी बता रहे हैं। तीनों ने बताया कि इनके पिता मजदूरी करते हैं और वे खेलते हुए ट्रेन में चढ़ गए थे। इसी बीच ट्रेन चल दी जिससे वह यहां पर पहुंच गए। थानाध्यक्ष ने बताया कि बच्चों की सुपुर्दगी के लिए चाइल्ड वेलफेयर कमेटी से बात की जा रही है। बच्चों को उन्हें सौंपा जाएगा।

न्यू जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन की सुरक्षा बढ़ी

New Jalpaiguri (NJPS), Katihar Division, NFR न्यू जलपाईगुड़ी: न्यू जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन के मुख्य प्रवेश द्वार पर स्केनर लगा दिया गया है. हालांकि मशीन अभी चालू नहीं हुई है. बहुत जल्द ही चालू कर दी जायेगी. रेलवे  सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रेलवे स्टेशनों की सुरक्षा के मद्देनजर स्टेशनों के मुख्य प्रवेश द्वार पर स्टेशन मशीन लगायी जा रही है. रेलवे सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मशीन चालू होने के बाद सभी यात्रियों की समानों की जांच स्केनर मशिन के अंदर डाल कर की जायेगी. की बैग के अंदर किसी प्रकार का विस्फोटक या अग यास्त्र तो नहीं है. मौके पर आरपीएफ व जीआरपी के जवान मौजूद रहेंगे. इस व्यवस्था से स्टेशन व ट्रनों की सुरक्षा में बहुत ही मदद मिलेगी. इस संबंध में एनजेपी रेलवे के एरिया मैनेजर पार्थ सारथी शील ने कहा कि स्केनर अभी शुरू नहीं हुआ है बहुत जल्द ही शुरू हो पाये.उन्होंने कहा कि स्टेशन व ट्रनों की सुरक्षा के मद्देनजर स्केनर लगाया गया हैं.

मंधना से पनकी तक नए ट्रैक की सर्वे रिपोर्ट बोर्ड को

Kanpur Central (CNB) कानपुर: मंधना से पनकी तक नया ट्रैक बिछाने पर आने वाले खर्च समेत अन्य ब्योरा तैयार करके रेलवे अधिकारियों ने रेलवे बोर्ड को रिपोर्ट सौंप दी है। अब बोर्ड को फैसला लेना है कि ये नया ट्रैक बिछेगा या नहीं।

वर्ष 2000 में भी मंधना से पनकी के मध्य नया ट्रैक बिछाने के लिए सर्वे किया गया था। इस वर्ष 2012 में भी दो बार सर्वे किया गया है जिसकी रिपोर्ट रेलवे बोर्ड को सौंपी गई है। वर्ष 2000 में सर्वे में इस नए ट्रैक को बिछाने में 67.9 करोड़ रुपया खर्च आंका गया था जो वर्ष 2013 में बढ़कर 232 करोड़ रुपये हो गया है। फर्रुखाबाद रेल मार्ग पर सेंट्रल स्टेशन से मात्र 18 किमी की दूरी पर स्थित मंधना स्टेशन से पनकी की ओर ट्रैक को मोड़कर दिल्ली हावड़ा मुख्य रेल मार्ग में मिलाने की योजना है। ऐसा होने पर मंधना से अनवरगंज तक रेलवे ट्रैक हटने की संभावनाएं प्रबल हो जाएंगी और जीटी रोड, कालपी रोड के अलावा गुमटी नंबर समेत कई प्रमुख बाजारों व लिंक मार्गो को जाम से निजात मिल जाएगी।

रेलवे की सर्वे रिपोर्ट

  • कुल रेलवे क्रासिंग 20
  • रेलवे क्रासिंग बंद हो चुकी 2
  • वर्तमान में कुल क्रासिंग 18
  • अनवरगंज से रावतपुर 5 किमी।
  • अनवरगंज से कल्याणपुर 10 किमी।
  • अनवरगंज से मंधना 18 किमी।
  • वर्ष 2000 में खर्च 67.9 करोड़।
  • वर्ष 2012 में खर्च 232 करोड़।
  • जमीन चाहिए 111 हेक्टेयर।

जमीन पर खर्च आंका

  • वर्ष 2000 में 9 करोड़ 55 लाख 57 हजार 437 रुपया
  • वर्ष 2012 में 122 करोड़ 40 लाख 97 हजार 134 रुपया

इंजीनियरिंग पर खर्च आंका

  • वर्ष 2000 में 18 करोड़ 85 लाख 40 हजार 581 रुपया
  • वर्ष 2012 में 29 करोड़ 36 लाख 20 हजार 188 रुपया

अन्य खर्च आंका

  • वर्ष 2000 में 1 लाख 62 हजार
  • वर्ष 2012 में 1 लाख 80 हजार

22 छोटे स्टेशनों पर बिछेगा ट्रैक

Kanpur Central (CNB), Allahabad Jn, NCR कानपुर: 120 वैगन वाली मालगाड़ियां (लांगहाल) रेलवे अधिकारियों के लिए मुसीबत बन गई हैं। इस समस्या से निपटने के लिए दिल्ली हावड़ा रूट के 22 छोटे रेलवे स्टेशनों पर 1500 मीटर लंबा ट्रैक बिछाने का कार्य अगले माह आरंभ हो जाएगा। रेल अधिकारियों ने सर्वे करके अपनी रिपोर्ट और खाका पूरी तरह तैयार कर लिया है।

रेलवे ने मालगाड़ियों की संख्या कम करने के लिए ही लांगहाल मालगाड़ी चलाने का फार्मूला अपनाया है। इस फार्मूले में दो मालगाड़ियां जोड़ दी जाती हैं। इसमें दोनों मालगाड़ी का इंजन नहीं हटाते, बल्कि दोनों इंजन मालगाड़ी को ले जाते हैं। इसमें एक इंजन आगे और दूसरा बीच में लगाया जाता है। समस्या यह है कि 120 वैगन वाली इस मालगाड़ी को जब चलाया जाता है तो किसी स्टेशन पर इतना लंबा अतिरिक्त ट्रैक नहीं है कि वहां इसे रोका जा सके। ऐसे में अन्य ट्रेनें प्रभावित होती हैं। सूत्रों के मुताबिक उत्तर मध्य जोन में आने वाले दिल्ली हावड़ा रेलमार्ग पर अतिरिक्त ट्रैक बिछाने को अंबियापुर, इकदिल, भदान समेत 22 छोटे स्टेशनों को चुना गया है। वर्तमान में हालत ये है कि जब इस मालगाड़ी को चलाया जाता है तो रेलवे अधिकारी इसे रोकने व पीछे आ रहीं ट्रेनों को निकालने को लेकर परेशान रहते हैं। फर्रुखाबाद या लखनऊ रेल मार्ग पर ट्रेनों की संख्या इतनी नहीं है लेकिन दिल्ली हावड़ा रूट पर एक के पीछे एक ट्रेन दौड़ रही हैं। इस संबंध में उत्तर मध्य जोन के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी नवीन बाबू ने बताया कि दिल्ली हावड़ा रूट पर जल्द ही ट्रैक बिछाया जाएगा, जिससे ट्रेनों के संचालन में बाधा न हो।

वैशाली साढ़े छह घंटे, गोरखधाम आठ घंटे देर से आई

Gorakhpur Jn (GKP) गोरखपुर। ठंड के साथ-साथ कोहरे का भी असर बढ़ने लगा है। बढ़ते कोहरे ने जहां लोगों के जन-जीवन पर असर डाला है, वहीं ट्रेनों की रफ्तार पर भी असर पड़ा है। मंगलवार को कानपुर और लखनऊ के बीच घने कोहरे की वजह से दिल्ली से आने वाली महत्वपूर्ण सुपरफास्ट ट्रेनों की रफ्तार प्रभावित हुई। इसके चलते कई ट्रेनें लेट हुईं।

वैशाली एक्सप्रेस जिसके गोरखपुर पहुंचने का समय सुबह 9 बजे है, वह साढ़े तीन बजे शाम को पहुंची। गोरखधाम एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय से आठ घंटे की देरी से गोरखपुर पहुंची। इससे यात्रियों को काफी दिक्कत हुई। इसके अलावा इसी रूट से आने वाली मथुरा-छपरा एक्सप्रेस सवा पांच बजे शाम को आई। इसके आने का समय दोपहर डेढ़ बजे है। सत्याग्रह एक्सप्रेस सवा दस बजे की जगह बारह बजे आई जबकि एलटीटी-गोरखपुर एक्सप्रेस शाम पांच बजकर 10 मिनट की जगह साढ़े सात बजे गोरखपुर पहुंची। कोहरे से ट्रेनों के इस कदर लेट होने से रेल विभाग के आधुनिक फॉग डिवाइस से ट्रेनों के संचलन को सामान्य रखने का दावा फेल होता नजर आ रहा है।

कोहरे का कहर, ट्रेनें आठ घंटे तक लेट

Faizabad Jn (FD), Lucknow Division, Northern Railway फैजाबाद। ठंड व कोहरे के चलते रेल की सवारी यात्रियों पर भारी है। संचालन व्यवस्था पटरी से उतर गई लगती है। कोहरे ने पहियों के तेज रफ्तार से चलने पर अंकुश लगा दिया है। सुदूर प्रदेशों की यात्रा करने वाले बेबस यात्री खासे परेशान हैं। यात्रा होगी या नहीं, ट्रेन आयेगी या निरस्त होेगी, यह यात्रियों के दिमाग को कचोटने लगा है। सोमवार को सभी गाड़ियां विलंब से रवाना हुईं। फैजाबाद पहुंचने वाली कोटा पटना एक्सप्रेस आठ घंटे तक लेट हो चुकी थी, जबकि दिल्ली से चलकर पश्चिम बंगाल के मालदा जाने वाली फरक्का एक्सप्रेस के छह घंटे बाद आने की संभावना थी। दिल्ली से आजमगढ़ के बीच दौड़ रही कैफियात एक्सप्रेस पांच घंटे बाद आजमगढ़ की ओर रवाना हुई।

देश की राजधानी दिल्ली से कहीं अधिक दूर का सफर तय करने वाली ट्रेनें तीन-चार घंटे विलंब से पहुंच रही हैं। सबसे खराब हालत दिल्ली से पहुंचने वाली ट्रेनों की है। ट्रेन के एक लोको पायलट का कहना था कि ट्रेनों के संचालन में ठंड नहीं, कोहरा सबसे ज्यादा बाधक बना है।

सुबह कोहरे के कारण इंजन के आगे दो फिट भी नहीं दिखाई दे रहा है। कलर लाइटें भी पास पहुंचने पर दिखाई देती हैं। ऐसी दशा में एक्सप्रेस ट्रेनों को 30 किमी प्रतिघंटा की गति से भी चला पाना जोखिम भरा हो गया है।

टूटा मिला रेलवे ट्रैक

Jajpur Keonjhar Road (JJKR) Khurda Division, ECOR झझारपुर : सकरी-निर्मली-लौकहा रेलखंड जर्जरावस्था के चरम पर है। गुरुवार को स्थानीय रेलवे जंक्शन के ट्रैक नं.4 की पटरी 2 से तीन फीट में दो जगह टूटी पाई गई। अगर अपसाईड काटा वाला कर्मी शिव कुमार महतो सतर्क नहीं होता तो वहां शंटिंग कर रहा इंजन दुर्घटनाग्रस्त हो जाता। गुरुवार सुबह करीब सात बजे इंजन चार नं. लाईन से होकर ही पाच नं. लाईन पर जाने वाला था। अपसाईड काटा कर्मी श्री महतो ने पैट बदला कि उसकी निगाह ट्रैक के टूटे स्थल पर चली गई। उसने तुरंत स्टेशन अधीक्षक, यातायात निरीक्षक सहित अन्य को फोन किया। आनन फानन में अभियंताओं की टीम आई और पटरी बदलने के प्रयास तेज किए गए। हालाकि इस घटना से रेल यातायात प्रभावित होने की जानकारी नहीं है। यहा यह बता दें बीते चार दिन पूर्व भी इसी जंक्शन के नवटोल गुमटी से पीछे शटिंग के दौरान ही एक इंजन के चार पहिये बेपटरी हो गए थे।

एडीआरएम/सोनपुर मंडल की अध्यक्षता में ओवरब्रिज निर्माण को बनवाने के लिए हुई बैठक

Muzaffarpur Jn (MFP) मुजफ्फरपुर, संसू : ओवरब्रिज निर्माण को लेकर सोनपुर मंडल के एडीआरएम पीएन झा की अध्यक्षता में गुरुवार को जंक्शन पर वीआइपी कक्ष में आम जनता संघर्ष मोर्चा व माड़ीपुर पुल निर्माण संघर्ष मोर्चा के नेताओं की बैठक हुई। नेताओं ने अधिकारियों के सामने क्षतिग्रस्त ओवरब्रिज के निर्माण व वैकल्पिक व्यवस्था को लेकर जमकर हंगामा किया। पूर्व मंत्री हिन्द केसरी यादव व अन्य नेताओं और एडीआरएम के बीच घंटों बहसा-बहसी हुई।

इस दौरान रेलवे अधिकारी अप्रैल में ओवरब्रिज चालू कराने को कह रहे थे तो पूर्व मंत्री 20 दिसंबर को रेल ट्रैक जाम व अनशन करने पर डटे हुए थे। अन्य नेताओं ने भी पूर्व मंत्री की बातों का समर्थन किया। कुछ देर के लिए महौल गरम हो गया। सूचना मिलने पर डीएसपी दल-बल के साथ पहुंचे। नेताओं की मांग पर रेलवे अधिकारियों की एक नहीं चली। इसके बाद एडीआरएम ने वैकल्पिक व्यवस्था के लिए 1 जनवरी तक की मोहलत मांगी।

नेताओं ने मौखिक के बदले लिखित देने को कहा। इस पर एडीआरएम ने शाम पांच बजे लिखित देने की बात कही। नेतागण आश्वासन के लिए कक्ष में ही डटे रहे। शाम में एडीआरएम ने नेताओं को 1 जनवरी तक वैकल्पिक व्यवस्था के लिए लिखित आश्वासन पत्र सौंपा।

पूर्व मंत्री हिन्द केसरी यादव ने कहा कि वैकल्पिक व्यवस्था के लिए आश्वासन मिला है। इसलिए शुक्रवार को अनशन व ट्रैक जाम का कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया है। 1 जनवरी तक यातायात चालू नहीं होने पर आंदोलन तेज होगा। आम जनता संघर्ष मोर्चा के सचिव सुशील कुमार सिंह ने कहा कि वैकल्पिक व्यवस्था के लिए एडीआरएम से आश्वासन मिला है। मौके पर सीनियर डीसीएम बीएनपी वर्मा, इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारी सुबोध कुमार, आरपीएफ कमांडेंट मो. शाकिब, क्षेत्रीय अधिकारी जेपी त्रिवेदी, मोर्चा के संयोजक जमील अख्तर समेत दर्जनों नेता मौजूद थे।

अधिकारियों व नेताओं ने ओवरब्रिज का किया निरीक्षण

मुजफ्फरपुर : रेलवे अधिकारियों, डीएसपी व नेताओं ने गुरुवार को क्षतिग्रस्त ओवरब्रिज का निरीक्षण किया। दिनभर अधिकारियों ने वैकल्पिक व्यवस्था के लिए ओवरब्रिज के कम से कम दस चक्कर लगाए। एडीआरएम ने कहा कि डीआरएम को सभी समस्याओं से अवगत कराया जाएगा।

हादसे में घायलों को मुआवजा दिलाने पर नहीं उठी आवाज

बैठक में नेता हादसे में घायलों को मुआवजे की मांग भूल गए। उसे दरकिनार कर अधिकारियों से केवल वैकल्पिक व्यवस्था की मांग करते रहे।

चिड़ैयाटांड की तर्ज पर बने ओवरब्रिज

मुजफ्फरपुर : माड़ीपुर पुल निर्माण संघर्ष मोर्चा के नेताओं ने रेलवे अधिकारियों को चिड़ैयाटांड की तर्ज पर ओवरब्रिज बनाने के लिए एक नक्शा सौंपा। कहा कि चिड़ैयाटांड के पास जिस तरह अप व डाउन ओवरब्रिज बना है, उसी तर्ज पर इंजीनियर से नक्शा बनवाकर अधिकारियों को सौंपा गया है। नक्शे से बनने पर लोगों को दो रास्ते मिल जाएंगे।

ओवरब्रिज निर्माण को धरना

मुजफ्फरपुर : माड़ीपुर ओवरब्रिज निर्माण को लेकर बज्जिकांचल विकास पार्टी की ओर से गुरुवार को पूछताछ काउंटर के समीप एक दिवसीय धरना दिया गया। अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष देवेन्द्र राकेश ने कहा कि ओवरब्रिज क्षतिग्रस्त हो गया। इसे बनवाने के लिए रेलवे व सरकार सुधि नहीं ले रही है। पहली जनवरी तक वैकल्पिक व्यवस्था नहीं होने पर आंदोलन तेज किया जाएगा। मौके पर महासचिव जय नारायण साह, शत्रुघ्न तिवारी, राम नारायण राय, कुमर नाथ सिंह, उदय नारायण सिंह, सुरेश कुमार राय, सुनीता सोनी आदि थे।

ओवरब्रिज की बगल में बनेगी गुमटी

मुजफ्फरपुर : सोनपुर मंडल के अधिकारियों ने ओवरब्रिज की पूर्वी छोर पर रेलवे गुमटी बनाने की प्लानिंग की है। लेकिन, इसमें सीआरएस की मंजूरी अनिवार्य है। आदेश के बाद रेलवे गुमटी बन पाएगी। एडीआरएम ने कहा कि फिलहाल इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारियों को ट्रैक के ऊपर सड़क बनाने के लिए प्रस्ताव तैयार करने कहा गया है।

15 फरवरी से ठप हो जाएगी बढ़नी-बलरामपुर रेल सेवा

Gorakhpur Jn (GKP) गोरखपुर : पूर्वोत्तर रेलवे के लखनऊ मंडल स्थित बढ़नी से गोंडा के बीच लगभग 108 किमी रेल खंड का आमान परिवर्तन कार्य तेज गति से चल रहा है। सीपीआरओ के अनुसार दो चरण में कार्य को पूरा किया जाएगा। पहले चरण में 15 फरवरी से बढ़नी से बलरामपुर खंड पर रेल सेवा बंद होगी। दूसरे चरण में 15 अप्रैल से बलरामपुर से गोंडा खंड पर रेल सेवा बंद हो जाएगी। दोनों चरण के पूरा हो जाने के बाद इस रूट पर भी बड़ी लाइन पर एक्सप्रेस व मेल गाड़ियां फर्राटा भरने लगेंगी।

हाजीपुर जोन के मुख्य वाणिज्य प्रबंधक (यात्री सेवा) ने किया निरीक्षण

Bakhtiyarpur Jn (BKP), Danapur Division, ECR, बख्तियारपुर: मुख्य वाणिज्य प्रबंधक यात्री सेवा हाजीपुर जोन के संजीव शर्मा ने गुरुवार को बख्तियारपुर स्टेशन का निरीक्षण किया। इस दौरान दैनिक यात्री संघ के सदस्यों ने स्टेशन पर व्याप्त कुव्यवस्था की शिकायत की। लोगों ने बताया कि पूछताछ काउंटर पर लगा टेलीफोन वर्षो से खराब है। प्लेटफार्म संख्या तीन, चार व पांच पर एक भी शौचालय नहीं है। इस पर सीसीएम भड़क गए और कहा कि स्टेशन पर गंदगी लोग फैलाते हैं। इस पर यात्री संघ के सदस्य राम सागर राय ने कहा कि यहां की समस्याओं को अधिकारी नजरअंदाज कर देते हैं। इसकी शिकायत रेल मंत्रलय से करेंगे। बख्तियारपुर स्टेशन पर प्रतिदिन दो लाख रुपये आता है लेकिन यात्री सुविधा का अभाव है। निरीक्षण के मौके पर वरीय मंडल वाणिज्य प्रबंधक अरविंद कुमार रजक समेत अधिकार मौजूद थे। 1महिला ने पाकेट मार को पकड़ पुलिस को सौंपा1बख्तियारपुर : बख्तियारपुर स्टेशन के पूछताछ काउंटर पर ट्रेन की जानकारी लेने पहुंची महिला यात्री की जेब से रुपये निकालते एक उचक्के को महिला ने रंगेहाथ दबोच कर पुलिस को सौंप दिया। रेल थानाध्यक्ष गौतम कुमार ने बताया कि पीड़िता हरनौत निवासी रूबी कुमारी ट्रेन की जानकारी ले रही थी। इसी दौरान नया टोला माधोपुर निवासी राजू कुमार उसके बैग से एक हजार रूपये निकाल भागने लगा। महिला ने उसे पकड़ लिया और पुलिस को सौंप दिया।1मोबाइल की हेराफेरी करते धराए छात्र 1फतुहा : पटना के निजी विद्यालय के नौ छात्र को पुलिस ने मोबाइल दुकान में हेराफेरी करते हुए पकड़ा। ये छात्र फतुहा स्टेशन रोड पर एक मोबाइल दुकान में मोबाइल खरीदने पहुंचे और हेराफेरी करने लगे। मोबाइल दुकानदार को शक हुआ तो पुलिस को सूचना दी। 1पुलिस मौके पर पहुंची और सभी लोगों को गिरफ्तार कर लिया। बाद में पुलिस उन सभी के अभिभावकों को बुलाकर छात्रों को सौंप दिया।प्रतिनिधि, बख्तियारपुर : मुख्य वाणिज्य प्रबंधक यात्री सेवा हाजीपुर जोन के संजीव शर्मा ने गुरुवार को बख्तियारपुर स्टेशन का निरीक्षण किया। इस दौरान दैनिक यात्री संघ के सदस्यों ने स्टेशन पर व्याप्त कुव्यवस्था की शिकायत की। लोगों ने बताया कि पूछताछ काउंटर पर लगा टेलीफोन वर्षो से खराब है। प्लेटफार्म संख्या तीन, चार व पांच पर एक भी शौचालय नहीं है। इस पर सीसीएम भड़क गए और कहा कि स्टेशन पर गंदगी लोग फैलाते हैं। इस पर यात्री संघ के सदस्य राम सागर राय ने कहा कि यहां की समस्याओं को अधिकारी नजरअंदाज कर देते हैं। इसकी शिकायत रेल मंत्रलय से करेंगे। बख्तियारपुर स्टेशन पर प्रतिदिन दो लाख रुपये आता है लेकिन यात्री सुविधा का अभाव है। निरीक्षण के मौके पर वरीय मंडल वाणिज्य प्रबंधक अरविंद कुमार रजक समेत अधिकार मौजूद थे। 1महिला ने पाकेट मार को पकड़ पुलिस को सौंपा1बख्तियारपुर : बख्तियारपुर स्टेशन के पूछताछ काउंटर पर ट्रेन की जानकारी लेने पहुंची महिला यात्री की जेब से रुपये निकालते एक उचक्के को महिला ने रंगेहाथ दबोच कर पुलिस को सौंप दिया। रेल थानाध्यक्ष गौतम कुमार ने बताया कि पीड़िता हरनौत निवासी रूबी कुमारी ट्रेन की जानकारी ले रही थी। इसी दौरान नया टोला माधोपुर निवासी राजू कुमार उसके बैग से एक हजार रूपये निकाल भागने लगा। महिला ने उसे पकड़ लिया और पुलिस को सौंप दिया।1मोबाइल की हेराफेरी करते धराए छात्र 1फतुहा : पटना के निजी विद्यालय के नौ छात्र को पुलिस ने मोबाइल दुकान में हेराफेरी करते हुए पकड़ा। ये छात्र फतुहा स्टेशन रोड पर एक मोबाइल दुकान में मोबाइल खरीदने पहुंचे और हेराफेरी करने लगे। मोबाइल दुकानदार को शक हुआ तो पुलिस को सूचना दी। 1पुलिस मौके पर पहुंची और सभी लोगों को गिरफ्तार कर लिया। बाद में पुलिस उन सभी के अभिभावकों को बुलाकर छात्रों को सौंप दिया।स्टेशन परिसर का निरीक्षण करते सीसीएम

अब बनेगा अंडरब्रिज, जालंधर निगम देगा रेलवे को आठ करोड़

Jalandhar City (JUC) जालंधर: नार्थ हलके की मुख्य लंबित मांग बनी चंदन नगर आरयूबी (रेलवे अंडरब्रिज) के निर्माण के लिए सीपीएस केडी भंडारी के बाद मेयर सुनील ज्योति ने भी कमर कस ली है। प्रॉपर्टी टैक्स से हुई आय से करीब आठ करोड़ रुपये रेलवे को देने की योजना बनाई गई है, जबकि आरयूबी के शेष निर्माण के लिए करीब 15 करोड़ के लिए सरकार का दरवाजा खटखटाया जा रहा है।

सीपीएस केडी भंडारी के प्रयास से बीते सप्ताह सरकार द्वारा मिले फंड से आरयूबी के लिए 18.12 करोड़ की लागत से 1.49 करोड़ जमीन की खरीदारी की जा चुकी है। अब निर्माण के लिए करीब 23 करोड़ का प्रोजेक्ट तैयार है, जिसमें से करीब 8.64 करोड़ की लागत से रेलवे ट्रैक वाले हिस्से पर अंडरब्रिज का निर्माण रेलवे की इंजीनियरिंग शाखा ने करना है। इसके लिए निगम रेलवे को रकम का भुगतान करेगा, जिसका काम पूरा होने के बाद रेलवे दोनों ओर पीडब्ल्यूडी रैंप बनाने का काम करेगा। मेयर सुनील ज्योति ने बताया कि प्रॉपर्टी टैक्स से करीब 18 करोड़ रुपये की आय हुई है, जिसमें से करीब पांच करोड़ रुपये ठेकेदारों को भुगतान किया गया है। शेष राशि में से आठ करोड़ रुपये रेलवे को देने की योजना है, ताकि रेलवे अपने हिस्से का निर्माण शुरू कर सके। अब जल्द दी रेलवे को रकम देकर निर्माण कार्य शुरू करवाया जाएगा। जबकि इस बीच सरकार से शेष 15 करोड़ की मांग कर आरयूबी का प्रोजेक्ट पूरा किया जाएगा।

दरभंगा जंकशन पर यात्रियों ने की तोड़फोड़

Darbhanga Jn (DBG) दरभंगाः सीतामढ़ी जानेवाली सवारी गाड़ी के विलंब होने से आक्रोशित रेल यात्रियों ने दरभंगा जंकशन पर तोड़फोड़ की. स्टेशन अधीक्षक कार्यालय के शीशे तोड़ दिये. एसएस तथा आरपीएफ की पहल पर मामला शांत हुआ. जानकारी के अनुसार बुधवार की देर शाम सीतामढ़ी जानेवाली सवारी गाड़ी 55507 विलंब से दरभंगा जंकशन पहुंची. इसके बाद इसके ब्रेक (एसएलआर) को पीछे किये जाने के लिए इंजन आगे-पीछे दौड़ लगाने लगी. काफी लेट होने के कारण अंतत: यात्रियों का धैर्य टूट गया. सभी एएसएम कार्यालय पहुंच गये. शोर-शराबा करने लगे. इसके बाद बगल में अवस्थित स्टेशन अधीक्षक कार्यालय के पास भीड़ जमा हो गयी. उस समय स्टेशन अधीक्षक किसी दूसरे कार्य से निकले थे. आक्रोशित भीड़ ने अधीक्षक कार्यालय के शीशे तोड़ दिये. गेट पर लगा शीशा क्षतिग्रस्त कर दिया. सूचना पर तत्क्षण एसएस नलिनी मोहन झा वहां पहुंचे. स्थिति की जानकारी ली. यात्रियों को शांत कर ट्रेन खुलवाया. मौके पर आरपीएफ थानाध्यक्ष हीरा प्रसाद सिंह के नेतृत्व में पुलिस बल भी पहुंच गयी.

उल्लेखनीय है कि सीतामढ़ी की ओर से आनेवाली 55510 सवारी गाड़ी का रैक वापस 55507 नंबर से सीतामढ़ी जाती है. इसके आने का समय शाम में 5.15 निर्धारित है, जबकि रवानगी का समय शाम 6 बजे है. प्राय: नित्य यह ट्रेन यहां समय से नहीं आती. जाहिर है समय पर खुल भी नहीं पाती. दूसरी ओर इस रैक में एक ही ब्रेकवान है. परिचालन नियम के तहत इसे सबसे पीछे लगाया जाता है. लिहाजा जंकशन पर पहुंचने के बाद इसके ब्रेक को काटकर रैक के पीछे ले जाना पड़ता है. वहीं ट्रैक खाली नहीं रहने के कारण इस कार्य में और अधिक समय लग जाता है. गत शाम इसमें कुछ ज्यादा ही वक्त लग गया, जिससे यात्री आक्रोशित हो गये.

अजमेर-पुरी के बीच द्वि-साप्ताहिक एक्सप्रेस 30 से शुरू

Bilaspur Jn (BSP) बिलासपुर: रेल बजट 2013-14 में घोषित पुरी-अजमेर ट्रेन के संचालन को रेल मंत्रालय ने अपनी ओर से हरी झण्डी दे दी है. सप्ताह में दो दिन चलने वाली पुरी-अजमेर ट्रेन 20 दिसम्बर से शुरु होने जा रही है. रेलवे ने इसके लिए समय सारिणी भी घोषित कर दी है. पुरी-अजमेर के बीच द्वि-साप्ताहिक ट्रेन के संचालन के लिए रेलवे प्रशासन ने तैयारी कर ली है. 08421 पुरी-अजमेर एक्सप्रेस ट्रेन 22 दिसम्बर को और 08422 अजमेर-पुरी एक्सप्रेस 25 दिसम्बर को स्पेशल ट्रेन के रुप में एक फेरा लगाएगी. इसके बाद ही यह गाड़ी जुलाई 2013 के रेलवे समय सारिणी में प्रकाशित समयानुसार 18421 पुरी-अजमेर द्वि-साप्ताहिक 30 दिसम्बर 2013 से प्रत्येक सोमवार और गुरुवार को पुरी से अजमेर के लिए चलेगी. इसी तरह 18422 अजमेर-पुरी 03 जनवरी 2014 से हर शुक्रवार व मंगलवार को अजमेर से पुरी के लिए चलेगी. इस ट्रेन में 02 एसएलआर, 07 सामान्य कोच, 09 स्लीपर कोच, 03 एसी-थ्री, 01 एसी-टू पेण्ट्रीकार समेत 23 कोच के साथ चलेगी. 18421 पुरी-अजमेर द्वि-साप्ताहिक एक्सप्रेस पुरी से सोमवार व गुरुवार को 21 बजकर 25 मिनट पर रवाना होगी, जो खुरदारोड, भुवनेश्वर, मनचेश्वर, ढेंकानाल, तालचेर रोड, अंगुल, रैराखोल, संबलपुर, बरगढ़ रोड, बलांगीर, टिटलागढ़, कांटाभांजी, खरियार रोड, महासमुन्द होते हुए रायपुर 12 बजकर 30 मिनट पर पहुंचकर  15 मिनट के बाद रवाना होगी, यह ट्रेन  दुर्ग, गोंदिया, नागपुर, वर्धा, बडनेरा, अकोला, मलकापुर, भुसावल, जलगांव, अमलनेर, नंदूरबार, सूरत, बड़ोदा, अहमदाबाद, साबरमती, महेसाड़ा, पालनपुर, अबुरोड, सिरोही रोड, रानी, मारवाड़, ब्यावर होते हुए अजमेर 21 बजे पहुंचेगी. वहीं शुक्रवार और मंगलवार को अजमेर से यह ट्रेन रवाना होगी जो उसी रास्ते से होते हुए पुरी पहुंचेगी.

गोंदिया-छपरा 25 से चलेगी मुजफ्फरपुर तक
गोंदिया से छपरा के बीच चलने वाली द्वि-साप्ताहिक एक्सप्रेस ट्रेन 25 दिसम्बर से मुजफ्फरपुर  सप्ताह में पांच दिनों तक चलेगी. रेलवे प्रशासन ने यात्रियों की बेहद मांगों को देखते हुए यह निर्णय लिया है. रेलवे प्रशासन ने 15117/15118 गोंदिया से छपरा के बीच चलने वाली एक्सप्रेस ट्रेन को 25 दिसम्बर से मुजफ्फरपुर तक विस्तार करने का निर्णय लिया है. वर्तमान में यह गाड़ी सप्ताह में दो दिन 15117/15118 नम्बर पर चलती है. जो अग्रिम आरक्षण अवधि के कारण 5 फरवरी 2013 तक इसी नम्बर के साथ सप्ताह में 2 दिन मुजफ्फरपुर तक विस्तारित रुप में चलेगी. जबकि यह ट्रेन 25 दिसम्बर 2013 से एक गाड़ी 15231/15232 नम्बर के साथ सप्ताह में 5 दिन गोंदिया से मुजफ्फरपुर तक चलेगी. गाड़ी संख्या 15117 मुजफ्फरपुर-गोंदिया एक्सप्रेस मंगलवार और शनिवार को एवं गाड़ी संख्या 12231 मुजफ्फरपुर-गोंदिया एक्सप्रेस सोमवार, बुधवार, गुरुवार, शनिवार और रविवार को चलेगी. इसी प्रकार गाड़ी नम्बर 15118 गोंदिया-मुजफ्फरपुर एक्सप्रेस बुधवार एवं शनिवार को एवं गाड़ी संख्या 15232 गोंदिया-मुजफ्फरपुर एक्सप्रेस सोमवार, मंगलवार, गुरुवार, शुक्रवार एवं रविवार को चलेगी. 7 फरवरी 2014 से इन दोनों गाड़ियों को मिलाकर 15231/15232 नम्बर के साथ गोंदिया एवं मुजफ्फरपुर के बीच इस गाड़ी का दैनिक परिचालन किया जाएगा. इस ट्रेन में 02 एसएलआर, 06 सामान्य कोच, 05 स्लीपर, 01 एसी-थ्री, 01 एसी-टू समेत कुल 16 कोच के साथ चल रही है. छपरा से मुजफ्फरपुर के बीच इस ट्रेन की समय सारिणी इस प्रकार से रहेगी. 15232/15118 गोंदिया से मुजफ्फरपुर के बीच चलने वाली दैनिक एक्सप्रेस ट्रेन गोंदिया से 21 बजे रवाना होगी और छपरा 2 बजकर 20 मिनट पर पहुंचेगी. छपरा से निकलकर सोनपुर 3 बजकर 25 मिनट पर पहुंचेगी, हाजीपुर होते हुए यह ट्रेन मुजफ्फरपुर 5 बजे पहुंचेगी. इसी तरह मुजफ्फरपुर से 11 बजकर 50 मिनट पर रवाना होगी, जो हाजीपुर, सोनपुर होते हुए छपरा 15 बजकर 15 मिनट पर पहुंचेगी. छपरा से रवाना होकर गोंदिया 18 बजकर 50 मिनट पर पहुंचेगी.

ऑनलाइन होगी रिटायरिंग रूम की बुकिंग

Darbhanga Jn (DBG) दरभंगाः दरभंगा जंकशन पर रिटायरिंग रूम में अपनी बुकिंग कराने के लिए अब यात्रियों को पूछताछ कार्यालय का चक्कर नहीं लगाना होगा. इसकी ऑनलाइन बुकिंग होगी. देश के किसी भी हिस्से से जहां यह सुविधा उपलब्ध है यात्री कमरा आरक्षित करा सकेंगे.  जंकशन पर इस नयी व्यवस्था को लागू किया जा रहा है. विभाग के अधिकारी इसमें लगे हैं. शीघ्र इसके चालू हो जाने के आसार हैं.

करानी पड़ती है बुकिंग

अब तक जंकशन पर रिटायरिंग रूम बुक कराने के लिए मैनुअल व्यवस्था है. पूछताछ कार्यालय में जाकर यात्रियों को पहले रूम खाली होने की जानकारी लेनी पड़ती है. कमरा उपलब्ध होने पर राशि जमा कर उनके नाम से रूम बुक किया जाता है.

कहीं से करा सकते बुकिंग

नयी व्यवस्था के तहत यात्री कंप्यूटर से इसकी ऑनलाइन बुकिंग करा सकते हैं. जिस स्टेशन से बुकिंग करायेंगे, उसी स्टेशन पर उन्हें टिकट मिलेगा. राशि देकर यात्री टिकट लेंगे. यहां पहुंचने पर उन्हें टिकट दिखाने के बाद कमरा मिल जायेगा.

बाहर से आनेवालों को सुविधा

सबसे अधिक सुविधा दूर-दराज से आनेवाले यात्रियों को होगी. मालूम हो कि बाहर से आनेवाले यात्रियों को विशेषकर रात के समय ज्यादा परेशानी होती है. पूरी रात या तो कमरा के लिए बाजार में भटकना पड़ता है अथवा स्टेशन पर रात गुजारनी पड़ती है. ऐसे में यात्र से पूर्व बुकिंग करा लेने से उन्हें काफी सहूलियत मिलेगी.

आरक्षण की तरह होगी बुकिंग

ऑनलाइन बुकिंग आरक्षण की तरह होगी. कंप्यूटर में बर्थ की तरह रिटायरिंग रूम की उपलब्धता की जानकारी रहेगी.

सूत्रों के अनुसार, करेंट रिजर्वेशन की तरह कमरा खाली रहने की स्थिति में रेलवे जंकशन पर भी यात्री ऑनलाइन बुकिंग करा सकेंगे.

पीलीभीत-शाहजहांपुर मीटर गेज रेलखंड के आमान परिवर्तन के लिए मंडल से प्रस्ताव भेजने को कहा है रेलवे बोर्ड ने

Haldwani (HDW) हल्द्वानी: सब कुछ ठीक रहा तो इज्जतनगर मंडल की सभी लाइनें ब्राडगेज हो जाएंगी। रेलवे बोर्ड ने पीलीभीत-शाहजहांपुर मीटर गेज रेलखंड के आमान परिवर्तन के लिए मंडल से प्रस्ताव भेजने को कहा है। इससे काठगोदाम व लालकुआं से लखनऊ जाने वाली ट्रेनें वाया भोजीपुरा होते हुए जा सकेंगी। साथ ही इससे समय व धन की भी बचत होगी। 1 इज्जतनगर रेल मंडल के बरेली-लालकुआं, कानपुर-फरूखाबाद, कासगंज-फरूखाबाद, मथुरा कासगंज, काठगोदाम-रामपुर और काशीपुर-लालकुआं रेलखंड मीटरगेज से ब्रॉडगेज में तब्दील हो चुके हैं। बरेली-कासगंज, भोजीपुरा-टनकपुर और पीलीभीत-लखीमपुर खीरी रेलखंड को ब्रॉडगेज में बदलने की कवायद चल रही है। अब रेलवे बोर्ड ने मात्र 84.09 किमी. के पीलीभीत-शाहजहांपुर ब्रॉडगेज का प्रस्ताव मांगा है। इस गेज कन्वर्जन के लिए रेल बजट 2014-15 में प्रावधान किया जाएगा। इसके ब्रॉडगेज होने से कुमाऊं से चलने वाली ट्रेनें भोजीपुरा वाया पीलीभीत-शाहजहांपुर होकर लखनऊ जा सकेंगी। वहीं लखनऊ-कानपुर की ट्रेन भी इस रूट से यहां आ सकेंगी। इससे रेल सफर आसान होगा। इसके साथ ही रेल और यात्रियों को आर्थिक बचत भी होगी। मंडल जनसंपर्क अधिकारी राजेंद्र सिंह के मुताबिक ब्राडगेज का प्रस्ताव बोर्ड को भेज दिया गया है। इसके बाद मंडल की सभी लाइनें ब्राडगेज हो जाएंगी। 1बाघ व रानीखेत में कोहरे का साया1हल्द्वानी : मैदानी क्षेत्रों में छाए कोहरे ने लंबी दूरी की ट्रेनों का सफर और लंबा कर दिया है। ट्रेन घंटों विलंब से यहां पहुंच रही हैं। जिससे लोगों को गंतव्य तक पहुंचने में भी देरी हो रही है। 1 गुरुवार को हावड़ा से आने वाली 13019 बाघ एक्सप्रेस करीब दो घंटे विलंब से पहुंची। ट्रेन को 9:30 बजे काठगोदाम पहुंचना था, लेकिन यह 11:30 बजे पहुंचीं। 15013 रानीखेत एक्सप्रेस भी भगत की कोठी से निर्धारित समय पर चलने के बावजूद दिल्ली में कोहरे के कारण करीब डेढ़ घंटे देरी से पहुंचीं। देहरादून से आने वाली 14119 काठगोदाम एक्सप्रेस 20 मिनट विलंब हुई। लंबी दूरी की ट्रेनों पर पड़ रहे कोहरे के असर को दूर करने के लिए अभी तक कोई ठोस उपाय नहीं खोज सका है। 1व्हील स्लिपिंग का खतरा टला 1हल्द्वानी : लालकुआं से हल्द्वानी के बीच ट्रेनों के पहिए फिसलने का खतरा अब टल गया है। सर्वाधिक प्रभावित रहने वाली रानीखेत एक्सप्रेस एवं बाघ एक्सप्रेस ट्रेनों में हाई पावर इंजन लगने से यह समस्या हल हुई है। हालांकि दून एक्सप्रेस में अभी भी कम क्षमता का ही इंजन चलाया जा रहा है।

Gujarat’s Metro-link Express chooses SAP solutions

MEGA team is confident that SAP implementation will facilitate greater transparency and agility in the system
SAP-logo

Bangalore (SBC):  SAP AG today announced that the Metro-link Express for Gandhinagar and Ahmedabad (MEGA) has chosen SAP solutions to assist Gujarat’s metro rail run efficiently and profitably.

The deployment will enable various departments of MEGA to be connected over a unified network and facilitate smoother information flow and access. With this implementation, MEGA aims to develop a landmark metro rail project for the state of Gujarat while simultaneously catalyzing dense and orderly urban growth in the state, a SAP release said.

Growing cities like Ahmedabad will soon house the bulk of the mushrooming population in future. The rapid sprawl of population, increasing fuel consumption and the resultant pollution has made public transport imperative. The Ahmedabad – Gandhinagar metro rail project was launched with a vision to provide safe, fast and eco-friendly services at affordable rates. This project will promote pioneer integrated public transportation in the region undertaken by collaborating with Ahmedabad Municipal Transport Service (AMTS) Bus Rapid Transit System (BRTS), Railways and other modes of public transit system. Seamless connectivity, minimum land acquisition, state- of- art infrastructure, fastest implementation, least construction cost are some of the key features of the project.

Said Dr. Manjula Subramaniam, Chairman, MEGA:”"Efficient urban transportation benefits people’s lives. The sector today wants the right competitive advantage as real-time business processing drives stronger outcomes and helps increase bottom lines. Through this initiative, we aim to create a benchmark in terms of taking e-governance to the next level, not only for the state of Gujarat, but also for the entire nation,” she added.

I. P. Gautam, vice-chairman, MEGA said “Leveraging advanced technology has become extremely crucial to upgrade nations transport system and eliminate bottlenecks. We are glad to partner with SAP and lay a solid foundation for an intelligent urban rail system”.

MEGA team is confident that SAP implementation will facilitate greater transparency and agility in the system and will assist them in improving operational proficiency. SAP’s partner ATOS implemented the project in 6 months. This project included deployment of various solutions from SAP such as SAP ECC, SAP BusinessObjects, SAP EHS, SAP Payroll and SAP Netweaver.

“The use of cutting-edge IT technology has become a critical approach to achieve transparency and improve efficiency across the end to end business processes”, said Shri Vijay Nehra, Chief Executive Officer, MEGA. “With SAP, we aim to accelerate the performance of operational models and comprehensively improve the decision-making efficiency thereby elevating the service level,” he added.

“Transportation sector have begun to leverage innovative technology to help them prepare for rapid urbanization and address sustainable growth,” said Mathew Thomas, Vice President – Strategic Industries, SAP India. “Through this collaboration, SAP is proud to play a part to help MEGA provide its citizen with a world class metro rail travel experience and simultaneously contribute to the socio-economic development of the society”, he added

The proposed metro project by MEGA will have, ballast-less tracks, driverless air-conditioned coaches, GPS based rail tracking system, train destination indicators & stations with support infrastructure like automated fare collection, m-ticketing, parking facilities, etc.

Page 59 of 189« First...102030...5758596061...708090...Last »